अमेरिकी डॉलर के आगे फीका पड़ता जा रहा है रूपया 

रुपये की गिरावट के मुख्य कारण बहुत सारे है लेकिन कुछ चुनिंदे कारण में आपको बताता हूँ

भारत के पास जो विदेशी पूँजी निवेश हुई है वह लगातार निकाली जा रही है 

कच्चे तेल के रेट अचानक बढ़ने की वजह से भी रुपये में भारी गिरावट देखने को मिली है 

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार सोमवार को 4164 करोड़ रुपये के शेयर बेचे गए 

40 सालों में अमेरिका में सबसे ज्यादा महंगाई मई के महीने में देखि गई 

यह भी मुख्य कारण हो सकता है भारत से विदेशी मुद्राएँ निकाली जा रही है 

बिज़नेस से जुडी हर खबर के लिए नीचे की तरफ क्लिक करें